Saturday, January 6, 2018

माई

माई
*****

"गरमागरम दूध मिल रहा बादाम का , यहां बैठी है
जा माँ के मंदिर में , "
नही जा रही बडी अजीब है तू तेरा कौन सा खजाना है जो कोई चुरा ले जायेगा "|
 " इन पोटलियों की रखवाली कर रही है इतनी ठन्ड हो रई भीतर चली जा प्रसाद  में दूध मिल रहा है सुनती ही नही |"

"नही जाना मुझे तू जा यहां से तू भर ले अपने पेट में "

भिखारन माई को पता था जैसे ही वह मंदिर के अन्दर जायेगी वह उसकी पोटली ले भाग जायेगा |
 " नही नही लालच नही करूगी कल साथ वाली माई माई आयेगी तो ले लेगी अपना प्रसाद |"
" जा माई जा "
" ‎काहे बार बार कह रहा है , एक बार कह दिया न नही लेना मुझे |"
भीख से जमा धन राशि की पोटली को  कस कर पकड लिया माई ने मानों कह रही हो अब तक अपनी हर चीज लोगो के बहकावे में लुटा चुकी है
बस अब नही लुटाऊंगी  |

आखिर क्यों ??

****************** " क्या माँगती हो भगवान से पूजा पाठ कर ! " पूजा गृह से वापस लौटी सन्जना पर तंज कसता हुआ नवीन मुँह टेढा कर मुस...

life's stories