जीवन पानी सरिता का.......

जीवन चलता कभी न रुकता
रूकता तो मंझधार है
जीवन पानी  सरिता का
बहना जिसके ध्येय है ,
अन्तहीन सफर ,कभी अन्धेरे
कभी गतिहीनता है, यह सफर
बडा अनोखा यहां हार जीत का सवाल है
चलते चलते सोचे जरा
यह कौन सा पडाव है
रूक जाये, जब समय भी
टिक- टिक क्या कहती घडी
अपने परायो के फेरों में उलझे रहते है हम।
जो दे जख्मों को उनसे खुशियों
की तमन्ना कैसे हो ।
जीवन फिर भी चलता
गम चाहे , खुशी हो
यह सफर तो कटना है
जीवन चलता कभी न रूकता
रूकता तो मझधार है..................

Comments

  1. जीवन फिर भी चलता
    गम चाहे , खुशी हो
    यह सफर तो कटना है
    जीवन चलता कभी न रूकता
    रूकता तो मझधार है..................
    ..Jeewan mein rawanagi nahi to wah bojhil ho jaati hai..
    preak prastuti...
    Deep parv kee haardik shubhkamnayne

    ReplyDelete
  2. सही है जीवन निरंतर चलने का नाम है ..

    ReplyDelete
  3. रूकता तो मझधार है.....
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  4. आप सभी का शुक्रिया आपने अपना समय दिया ।

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत रचना और अनुपम भाव...बधाई.


    _________________
    'शब्द-शिखर' पर पढ़िए भारत की प्रथम महिला बैरिस्टर के बारे में...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular Posts