Skip to main content

Posts

Featured

खंडहर ....

खंडहर......
मैं उसकी बाते सुन सुन कर थक चुका था रोज की वही किट किट... हे भगवान  अब तुम ही  मेरी कुछ मदद करो
सारी गलती तो मेरी ही है  मै ही उसके मासूम चेहरे के पीछे छिपे फरेब को न देख न पाया  .  पैसे की चकाचौंध ने मानो परदा डाल दिया हो. कितना मना किया सबने यह लड़की तुम्हारे  लिए सही नही, यह मतलबपरस्त व एक नम्बर की स्वार्थी है पर दिलो दिमाग़ पर वह हावी हो चुकी थी.. उसके रूपजाल  में मै इस कदर उलझ गया की अच्छे बुरे का कुछ होश न रहा.
बस उसके इशारों पर चलना मजबूरी नही आदत बन गयी
मेरा वक्त उसके साथ ही बीतता था वो खुद की तुलना एक हसीन इमारत से करती थी अगर गलती से मै कोई बात माँ की मान लेता तो वह कहती तुम उस खँडहर की ही सुनोगे मेरी नही. मै उसे कभी दुखी नही देख सकता था भले ही कितनो के दिल जार जार रोते हो सिर्फ उस हसीन इमारत की वजह  से. अपनी हर बात वो ऊपर रखती चाहे किसी का कितना भी नुकसान क्यों न हो उसे फर्क नही पडता.
एक बार मै बुखार में तड़प रहा था वो शहर  से दूर अपने किसी करीब की शादी में शामिल होने गयी थी मै घर पर अकेले था मां पहले ही मुझे छोड़ गांव में चली गयी थी.....
मेरी खांसी रुकने का ना…

Latest Posts

तुम मेरे हों .....last part

तुम मेरे हों ....part 5

तुम मेरे हों .......part. ...4

तुम मेरे हों .......३

तुम मेरे हों .....२

तुम मेरे हों ..........!....part 1

Ganga ke Kareeb: A little effort to aware people........!

अबोध कन्यायें व यौन अपराध

भड़ास blog: ये है पगडंडी की पत्रकारिता

Emotion's: ख्वाबो का सिलसिला जारी है......!