रास्ता कब खत्म हो चला.......!

जिन्दगी कहां ले चली तू मुझे
रास्ता कब खत्म हो गया
सफर तो कही अधूरा- सा
अब कब तूझसे रूबरू
क्या कभी नया ख्वाब .............!
दिखाकर गुम हो जायेगी खुशी
वो कौन सा मोड है जहां
तुझे ढूंढ लूगी मै ........!
जिन्दगी क्या है तेरा नया रंग
किसको जोडू किससे मुंह मोडु
रिश्तें कही न कही
जख्म दे रिसते ही रहे
वो कौन सा आसमां है
जिसे कहूं तू मेरा है........!
अब मेरी जां मेरी भी
नही उस पर हक है
किसी न किसी का
जिन्दगी अब क्या है मेरे वास्ते
चाहूं भी तूझमें मेरा अक्श
नही दिखता ...........
कहने को तो है
सितारे बहुत
एक चांद भी अपना नही लगता.......!
परायी जमीन पर
घर की इमारत
प्यारा एक धोखा है
फिर भी धोखे में जिये जा रही है जिन्दगी।

Comments

  1. जिन्दगी कहां ले चली तू मुझे
    रास्ता कब खत्म हो गया
    सफर तो कही अधूरा- सा
    अब कब तूझसे रूबरू
    क्या कभी नया ख्वाब .......
    वाह....बहुत अच्छी रचना....

    ReplyDelete
  2. परायी जमीन पर
    घर की इमारत
    प्यारा एक धोखा है
    फिर भी धोखे में जिये जा रही है जिन्दगी।

    संवेदनाएं बखूबी अभिव्यक्त हुई हैं ...आपने जिन्दगी का फलसफा बखूबी अभिव्यक्त किया है आपने ...आपका आभार

    ReplyDelete
  3. परायी जमीन पर
    घर की इमारत
    प्यारा एक धोखा है
    फिर भी धोखे में जिये जा रही है जिन्दगी.

    बहुत अच्छी विचार अभिव्यक्त करती रचना.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular Posts